पिता डांटते तो पड़ोसी के घर पर करते थे लिखने की प्रैक्टिस, स्ट्रगल के दौर में मैकेनिक थे गुलज़ार

[ad_1]

Gulzar Life Facts: भारतीय सिनेमा के मशहूर लिरिसिस्ट, राइटर और डायरेक्टर गुलज़ार (Gulzar) आज अपना जन्मदिन मना रहे हैं. वैसे आपको बता दें कि उनका असली नाम गुलज़ार नहीं बल्कि सम्पूर्ण सिंह कालरा है. फ़िल्मी दुनिया में कदम रखने के बाद उनका नाम गुलज़ार पड़ गया. गुलज़ार साहब का जन्म 18 अगस्त 1934 को पंजाब के झेलम जिले में हुआ था. ये इलाका अब पाकिस्तान में है.

 

1947 के बंटवारे के बाद उनका पूरा परिवार अमृतसर आ गया और गुलज़ार साहब दिल्ली में पढ़ाई करने लगे. पढ़ाई पूरी करने के बाद वह रोजी-रोटी कमाने के लिए मुंबई चले आए और यहीं के होकर रह गए. शुरुआत में उन्हें जीवनयापन के लिए कार मैकेनिक तक का काम करना पड़ा. काफी संघर्षों के बाद उन्हें 1963 में आई फिल्म बंदिनी में गीतकार के तौर पर ब्रेक मिला जिसके बाद उन्हें पीछे मुड़कर देखने की जरूरत नहीं पड़ी.

आपको बता दें कि गुलज़ार साहब के पिता और भाई नहीं चाहते थे कि वो राइटिंग का काम करें. बचपन में भी गुलज़ार घर में राइटिंग का काम करते तो उन्हें बहुत डांट पड़ती थी. इसी वजह से वो कई बार अपने पड़ोसी के घर जाकर लिखने की प्रैक्टिस किया करते थे.

 

पर्सनल लाइफ की बात करें तो गुलज़ार साहब ने एक्ट्रेस राखी (Rakhi) से शादी की थी. 1973 में हुई ये शादी महज एक साल के भीतर ही टूट गई थी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों अलग रहने लगे लेकिन इन्होंने कभी तलाक नहीं लिया. दोनों की एक बेटी है जिसका नाम मेघना गुलज़ार (Meghna Gulzar) है.

 

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *