सागर के मडिया डैम में भरा पानी, मुआवजा मिलने पर भी लोगों ने नहीं छोड़ा गांव, डीएम ने की ये अपील

[ad_1]

Sagar Rain: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में लगातार बारिश का दौर चल रहा है. नदी-नालों के उफान के चलते बांधों में पानी ओवर फ्लो हो रहा है. कई जगह बांधों का पानी छोड़ा भी जा रहा है. इसके साथ ही जहां नए डैम बने उन क्षेत्रों के हालात भी खतरे में नजर आ रहे हैं. धार डैम (Dhar Dam) की घटना के बाद प्रशासन अलर्ट है. सागर (Sagar) जिले में मडिया बांध (Madiya Dam) में भी अब पानी भर रहा है. इसके डूब क्षेत्र के इलाको में लोग अभी भी आशियाना बनाए हैं, जबकि उनको विस्थापित जगह पर जमीन मिल चुकी है. कलेक्टर दीपक आर्य (DM Deepak Arya) सहित प्रशसन इन इलाकों में जाकर गांव वासियों से डूब क्षेत्र को छोड़ने की अपील कर रहे हैं.

 

कलेक्टर दीपक आर्य और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी क्षितिज सिंगल, एसडीएम देवेंद्र प्रताप सिंह, तहसीलदार कुलदीप सिंह के साथ मडिया बांध में डूब में आए ग्राम परासरी खुर्द पैदल चलकर पहुंचे. करीब दो किलोमीटर चलकर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे, जहां बाकी बचे लोगों से उन्होंने जल्द ही गांव छोड़ने अपील की. मडिया डैम से डूब में आने वाले व्यक्तियों से मुलाकात की औकर चौपाल लगाकर समझाइश भी दी.

 

मडिया डैम में भर रहा है पानी

कलेक्टर ने कहा कि लोगों को मुआवजे की राशि और विस्थापन स्थल पहले से ही मिल चुका है. आपलोग जल्द ही अपना सामान और पशुओं के साथ गांव को छोड़कर विस्थापन स्थल पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि मडिया डैम में लगातार पानी भराव हो रहा है, जिससे परासरी खुर्द गांव भी पानी भराव की स्थिति में है. इस दौरान कलेक्टर ने गांव वासियों से विस्तार से चर्चा की और उनकी परेशानियों के समाधान के लिए विभागीय अधिकारियों को तत्काल दूर करने के निर्देश दिए.

 

‘अब रहने लायक नहीं है यह गांव’

कलेक्टर आर्य ने कहा, “आप लोगों को खेजरा माफी में जमीन प्रदान की गई है. आप सभी अपना सामान लेकर तत्काल गांव छोड़कर खेजरा माफी पहुंचे और सुरक्षित रहें. उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में यह गांव अब रहने लायक नहीं है, क्योंकि निरंतर पानी बढ़ रहा है और आप असुरक्षित हैं, आप सभी सुरक्षित स्थल पर पहुंचे. वहीं अनुविभागीय अधिकारी देवेंद्र सिंह ने बताया कि मडिया डैम में रूम में आने वाले सभी गांव वासियों को मुआवजा और विस्थापन के लिए जमीन आवंटित की गई है, लेकिन परासरी खुर्द के कुछ लोगों ने अभी तक गांव नहीं छोड़ा है, जिस कारण यह स्थिति निर्मित हुई है. उन्होंने तत्काल सभी लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचने की बात कही.

 

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *